PageMaker Introduction (पेजमेकर परिचय)

पब्लिशिंग के क्षेत्र में पेज मेकर हमेशा से अग्रणी रहा है । पेजमेकर का निर्माण एल्डस कंपनी ने किया था परन्तु बाद में इसका अधिग्रहण एडोबी ने कर लिया तब से इसका डेवलपमेंट तथा विकास एडोबी ही कर रहा है एवं इसके पश्चात पेजमेकर की साख दुनिया में और भी बढ़ गई तथा बड़ी बड़ी पब्लिशिंग कम्पनियों ने इसका बहुतायत में उपयोग करना शुरू कर दिया । पेजमेकर के सातवें संस्करण के बाद यह और भी आधुनिक तथा प्रभावी हो गया तथा इसके माध्यम से पब्लिशिंग करना और भी आसान तथा त्वरित हो गया । पेजमेकर का उपयोग विजिटिंग कार्ड्स, बायो डेटा, किताबें, मैगज़ीन, अखबार, लैटर पैड, पैम्पलेट इत्यादि को डिज़ाइन करने तथा पब्लिश करने में किया जाता है ।

Features of Adobe PageMaker (एडोब पेजमेकर की विशेषतायें)

पेजमेकर का सबसे नवीनतम संस्करण 7.0 है, इस संस्करण में एडोबी ने काफी सारे परिवर्तन किये और नए नए इनोवेटिव फीचर्स डाले जिनसे पब्लिशिंग का काम बहुत ही सुगमता तथा तीव्रता से किया जा सकता है ।

– इस संस्करण में एडोबी ने टेम्पलेट सम्मिलित किये है जिनके माध्यम से विभिन्न प्रकार के पेजों का डिज़ाइन पहले से हे निर्धारित होता है और आप उन्हें उपयोग में लेकर जल्दी से अपना काम कर सकते है ।
– इस संस्करण में पहले बार टूलबार को जोड़ा गया, जिसके माध्यम से काम करने की गति काफी तीव्र हो गई । इस टूल बार से आप फाइल को सुरक्षित सेव, प्रिंट, फॉर्मेटिंग, स्पेलिंग जांच इत्यादि सिर्फ एक क्लिक से ही कर सकते है।
– क्लिप आर्ट का उपयोग भी इस संस्करण में किया गया जिसके माध्यम से क्लिप आर्ट (छोटे छोटे पहले से निर्धारित चित्र तथा आइकॉन) का उपयोग पब्लिशिंग में आसानी से कर सकते है ।
– कलर मैनेजमेंट का प्रयोग पेज मेकर को काफी अलग बनती है, इसके माध्यम से आप अपने डॉक्यूमेंट में रंगों का निर्धारण पसंद के अनुसार करके देख सकते है ।
– प्रोफेशनल क्वालिटी की प्रिंटिंग
– आधुनिक तथा एडवांस प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी, जिसके माध्यम से आप डुप्लेक्स प्रिंटिंग, दोनों तरफ प्रिंटिंग, बाइंडिंग प्रिंटिंग इत्यादि आसानी से कर सकते है ।
– फोटोशॉप से डायरेक्टली फोटो को इम्पोर्ट करके उपयोग में ले सकते है ।
– विभिन्न स्त्रोतों से डाटा को मर्ज करके प्रिंटिंग कर सकते है ।

यूजर इंटरफ़ेस (पेज मेकर संचालित करना)

पेजमेकर की विशेषताओं से यह साफ़ है की पेजमेकर एक बहुत ही उपयोगी सॉफ्टवेयर है तथा सबसे लिए इसका थोड़ा बहुत समझ जरूरी है ताकि आप अपने प्रोफेशनल डॉक्यूमेंट इत्यादि खुद से डिज़ाइन करके प्रिंट कर सके ।
जब आप एडोबी पेजमेकर को खोलेंगे तो आपको सबसे पहले नीचे दी हुई स्क्रीन दिखाई देगी

टूलबॉक्स (Tool Box) – यह पेजमेकर में काम करते समय प्रयोग में लाये जाने वाले टूल्स का संग्रह होता है, यहॉ आपको पब्लिकेशन बनाने में मदद करने वाले 14 प्रकार के टूल्स उपलब्ध होते हैं, असल में पेजमेकर में बनी हुई फाइल को पब्लिकेशन कहा जाता है। इसको सुविधानुसार कहीं भी खिसकाया जा सकता है। जब पेजमेकर में कोर्इ नया पब्लिकेशन बनाया जाता है या पहले से बने पब्लिकेशन को खोला जाता है। तभी टूल बॉक्स में दिये हुए आइकॉन दिखार्इ देने लगते है। यदि किसी कारण से टूलबॉक्स न दिखार्इ देवे तो विंडो मेनू को ओपन करके Show Tools पर क्लिक करके ही टूलबॉक्स के दवारा पेजमेकर में पब्लिकेशन के टेक्स्ट तथा ग्राफ़िक्स का संपादन तथा एडिटिंग की जा सकती है ।

स्टैन्डर्ड टूल बार (Standard Tool Bar) – पेजमेकर के मेनू बार के ठीक नीचे एक पट्टी/रिब्बन के रूप में स्टैण्डर्ड टूल बार दिया गया होता है, इसमें ज्‍यादातर उपयोग में आने वाले कमांड्स जैसे, New, Open, Save, Print, find आदि को आइकॉन के रूप में दर्शाया गया होता है , जिनको आप पब्लिकेशन में काम करते समय सिर्फ एक क्लिक करके उपयोग में ले सकते है । स्टैण्डर्ड टूल बार के उपयोग से काम करने की गति और भी तेज हो जाती है तथा कम समय में अधिक काम किया जा सकता है ।

रूलर गाइड (Ruler Guide) – पेज की लम्‍बाई, चौडाई बताने, मार्जिन निर्धारित करने तथा अन्य डाइमेंशन्स के लिये रूलर गाइड का उपयोग किया जाता हैा लेकिन जब कि जरूरत पडे इसे भी खिसकाया जा सकता हैा रूलर गाइड पब्लिकेशन के बाएं तरफ होती है।

कंट्रोल पैलेट(Control Palette) – इसमें अक्षरों का फॉन्ट, फॉन्ट साइज, बोल्ड, इटैलिक, अंडरलाइन, लाइन स्पेसिंग आदि से सम्बंधित उपयोगी ऑप्शन होते है, जो पब्लिकेशन में काम करते समय किसी भी प्रकार की एडिटिंग करने में सहायता करता है।

पेज बार्डर(Page Boarder) – इससे पब्लिकेशन बनाते समय या कुछ टाइप करते समय पेज की स्थिति पता रहती है, यह पेज की बाहरी सीमाओं (Limitations) को दर्शाता है, अगर आपका टाइप किया गया टेक्स्ट अथवा ग्राफ़िक्स पेज की सीमा के बाहर चला जाता है, तो वह प्रिन्‍ट निकालते समय नहीं छपता है। इससे पता लग जाता है की कोनसा पार्ट प्रिंटिंग में नहीं आएगा तथा उसकी प्रिंटिंग के बाद किस स्थिति में दिखाई देगा ।

मार्जिन गाइड(Margin Guide) – जिस प्रकार पेज बॉर्डर से पेज की सीमाओं को दर्शाया जाता है, उसकी प्रकार पेज के अन्‍दर अपने टाइपिंग भाग को निर्धारित करने के लिये मार्जिन गाइड्स का उपयोग किया जाता है। यह पेज पर नीले रंग की एक पतली रेखा के रूप में दिखाई देती है।

Author:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.