इंटीरियर डिजाइन क्या है? Interior Designers। Kitchen Interior Design

इंटीरियर डिजाइन क्या है? Interior Designers। Kitchen Interior Design
इंटीरियर डिजाइन क्या है? Interior Designers। Kitchen Interior Design 2

आज के इस आधुनिक दौर में हर क्षेत्र आगे बढ़ते जा रहा है और व्यक्ति दिन प्रतिदिन अपने आप को एडवांस करते जा रहा है आज के समय में घर की परिभाषा भी बदल गई है अब घर में सीमेंट, ईट और लकड़ी के ढांचे ही पर्याप्त नहीं है अब उसे निर्माण करने के लिए आपको एक पेशेवर इंजीनियर और इंटीरियर डिजाइनर की जरूरत पड़ती है क्योंकि घर एक बार बनाता है और उसमें अपनी पूरी कमाई लगा देता है यदि आप भी इंटीरियर डिज़ाइनर बनना चाहते हैं और इस फील्ड में एक अच्छा खासा पैसा कमाना चाहते हैं तो हम आपको इस आर्टिकल में पूरी इंफॉर्मेशन देने वाले हैं।

यदि आप अपने घर को दोबारा सजाना चाहती हैं या फिर रिनोवेट करना चाहते हैं तो अपना खुद का दिमाग लगाने से बेहतर है कि आप इंटीरियर डिजाइनर की हेल्प ले वह आपके घर की पूरी रूपरेखा तैयार कर देगी और घर के हिसाब से जो बेहतर होगा ऐसा डिजाइन आपके सामने रख देंगे कई बेहतर ऑप्शन भी मिलेंगे इस वजह से इंटीरियर डिजाइनर से संपर्क कर सकते हैं इंटीरियर डिजाइनर आज एक पेशेवर बिजनेस आइडिया बन गया है बड़ी – बड़ी सिटी के साथ-साथ छोटे शहरों में भी इंटीरियर डिजाइनर सर्च किया जा रहा है।

इंटीरियर डिजाइनर क्या है?

आजकल हर छोटे-बड़े शहरों में इंटीरियर डिजाइनर की डिमांड काफी बढ़ गई है। और छोटे बड़े फंक्शन में इंटीरियर डिजाइनर से डेकोरेशन कराया जा रहा है। जैसे मकान, इमारत, भवन आदि को एक खूबसूरत लुक देना इंटीरियर डिजाइनर का प्रमुख कार्य होता है। इंटीरियर डिजाइनर अब केवल बड़े शहरों तक ही सीमित नहीं है अब छोटे-छोटे गांव शहरों आदि में भी इंटीरियर डिजाइनर की डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ गई है।

एक इंटीरियर डिजाइनर की कार्य?

एक इंटीरियर डिजाईन में डिजाइनर का सबसे पहला काम होता है कि एक नई डिजाइन की रूपरेखा को तैयार करना और रिहायशी मकानों व्यवसायिक व अन्य इमारतों की सजावट करना इंटीरियर डिजाइनर को कांट्रेक्टर आर्किटेक्ट व इंजीनियर समेत अन्य लोगों के साथ मिलकर काम करना होता है एक इंटीरियर डिजाइनर को यह सुनिश्चित करके चलना होता है कि डिजाइन बनाने का कार्य अच्छे तरीके से हो रहा है या नहीं इंटीरियर डिजाइनर अपने ग्राहकों को बेसिक लेआउट फर्नीचर का कलर कांबिनेशन समेत अलग-अलग तरह के डिजाइन से जुड़ी सलाह देते हैं इसके साथ ही डिजाइन को और बेहतर करने के लिए संबंधित ग्राहक से निरंतर बातचीत करना व विचारों का आदान प्रदान करना भी इंटीरियर डिज़ाइनर के काम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

इंटीरियर डिजाइनर की जिम्मेदारियां

इंटीरियर डिजाइनर स्वतंत्र रूप से काम कर सकते हैं या किसी कंपनी में जोड़ पर अपना कार्य कर सकते हैं। स्वतंत्र इंटीरियर को किसी कंपनी या किसी कंपनी को एक स्वतंत्र डिज़इनर के साथ भी मिलकर काम करना पड़ सकता है कई बार ग्राहक के जरूरत के हिसाब से एक ही रह जाएगा को अपना काम करना होता है आज के समय में बहुत सारे इंटीरियर डिजाइनर लंबे समय तक चलने वाली डिजाइन को पसंद करते हैं जो आधुनिक इको फ्रेंडली भी है डिजाइनर को कांट्रेक्टर व मालिक दोनों के साथ अपनी डिजाइन को अंजाम तक पहुंचाने के लिए तालमेल बनाकर रखना पड़ता है एक इंटीरियर डिजाइनर को बिल्डिंग कोड यूनिवर्सल एक्सेसिबिलिटी स्टैंड व इंफेक्शन रेगुलेशन के बारे में भी जानकारी होना बहुत आवश्यक है इस क्षेत्र में काम करने के लिए डिजाइनर को कंप्यूटर ऐडेड डिजाइन फोटो साफ व रैगिंग जैसी सॉफ्टवेयर की जानकारी होना आवश्यक है।

इंटीरियर डिजाइनर क्षेत्र के लिए जरूरी योग्यता

  • इंटीरियर डिजाइनर उसको करने के लिए निम्नलिखित योग्यताओं का होना आवश्यक है।
  • इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स को करने के लिए किसी भी विषय में 12 वीं पास होना आवश्यक है।
  • 12वीं में कम से कम 40% से 50% मार्क्स होनी चाहिए।

इसके अलावा ग्रेजुएशन के बाद भी इंटीरियर डिजाइनर के लिए आवेदन कर सकते हैं इस कोर्स में डिप्लोमा और डिग्री दोनों तरह के कोर्स का विकल्प होता है कैंडीडेट्स अपने सुविधा के अनुसार इस कोर्स को कर सकता है डिप्लोमा कोर्स 1 वर्ष के लिए तथा डिग्री डिजाइनर कोर्स 3 वर्ष का होता है।

  • पोस्ट ग्रेजुएशन करना चाहते हैं तो आपको आवश्यक अंकों के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री होना जरूरी है।
  • कभी-कभी न्यूनतम GPA की आवश्यकता भी होती है।
  • पीएचडी के लिए मास्टर्स डिग्री होना जरूरी है।
  • मास्टर्स के लिए GRE व मैनेजमेंट कोर्स के लिए GMAT की मांग भी की जाती है।
  • इंटीरियर डिजाइनिंग के लिए सिलेबस।

इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स इसकी जो सिलेबस है वह लगभग समान ही होते हैं जिसकी जानकारी नीचे दिया गया है

  • मैटेरियल एंड फिनिशेस
  • कलर थोरी एंड टेक्निक्स
  • डिजाइनिंग टेक्नोलॉजी
  • कंस्ट्रक्शन एंड डिजाइन
  • कंप्यूटर वेब डिजाइनिंग
  • कास्ट इंटीमेशन
  • मैटेरियल परचेज
  • एनवीरो मेंटल स्टडीज
  • फर्निचार डिजाइनिंग
  • मॉडल मेकिंग
  • डिजाइन प्रैकस

इंटीरियर डिजाइनर कैसे बने

इंटीरियर डिजाइनर कोर्स पूरा करने के बाद इंटीरियर डिजाइनर कंपनी में इंटरशिप करें डिजाइनर के असिस्टेंट के रूप में काम करें टॉप इंटीरियर डिजाइनर को फॉलो करें और उनकी डिजाइन से कुछ नया सीखे हमेशा क्रिएटिव करने का सोचा मिलनसार बने रहे यह के प्रोजेक्ट का ब्लूप्रिंट अपने पास रखो अपने दिल को लगातार डिवेलप करते रहे

भारत के टॉप कॉलेज

भारत में इंटीरियर डिजाइनिंग का कोर्स ऑफर करने वाली प्रसिद्ध संस्थानों के नाम

  • इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट आफ फैशन डिजाइन (आईएनआईएफडी) मुंबई
  • MIT इंस्टीट्यूट आफ डिजाइन पुणे
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन अहमदाबाद
  • पर्ल अकैडमी
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी जालंधर
  • इंटरनेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी चंडीगढ़
  • हैमस्टेक इंस्टिट्यूट ऑफ़ क्रिएटिव एजुकेशन हैदराबाद
  • चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी चंडीगढ़
  • आर्च कॉलेज आफ डिजाइन एंड बिजनेस जयपुर
  • JD इंस्टिट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी मुंबई चार्जिंग

एक छोटे से घर की सजावट करते समय रसोई का डिजाइन करना सबसे कठिन कार्य होता है या घर पर सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले कमरों में से एक है जिसे पूरी तरह कार्यात्मक और अच्छी तरह से संगठित होना चाहिए अगर आपके छोटे से घर में कटी लगने वाली तस्वीर को शामिल करने के तरीके हैं लेकिन सुंदर बनाने के लिए आपको विचार करना चाहिए किचन को क्षेत्र की आकर्षक और आसान काम करने के लिए लकड़ी एग्री निक संगमरमर ग्रेनाइट सिरेमिक और टुकड़े टुकड़े जैसी विविध प्रकार की संभावनाओं के साथ बनाया गया है छोटी रसोई में भी समस्या प्रबंधन करने के लिए रसोई योगदान कारों ने कई रोचक लेआउट तैयार किए हैं यह आपके छोटे घर के लिए काफी महत्वपूर्ण है।

सूझबूझ से तैयार किए गए छोटे स्थानों में भंडारण का महत्व

थोड़ा सा भंडारण स्थान बचाने के लिए उन्हें एक्सेस करने में आसान बनाने के लिए कुछ कलाकारी और अन्य चीजों की आवश्यकता होती है जैसा की किचन में कॉर्नर का उपयोग आपने केवल अपनी सर्वोत्तम कॉर्नर को प्रदर्शित कर सकते हैं बल्कि उन्हें एक्सेस करना भी आसान हो जाता है इसके अलावा यह आंतरिक और पीली दीवारों का भ्रम भी देते हैं जो कि आपकी अपनी छोटी रसोई के डिजाइन को भारतीय शैली में बड़ा दिखाने के लिए बहुत ही आवश्यक है।

खिड़कियां

इंटीरियर डिजाइनर के साथ यदि आपने खिड़कियों का इस्तेमाल भी अपने किचन में किया है तो आपका काम 10 गुना आसान हो गया है फिर से बहुत सारी प्राकृतिक रोशनी इस प्रकार आपके भारतीय रुपए डिजाइन में जगह का एक अतिरिक्त प्रदान करती है यदि आपके पास पर्याप्त है भाई परिसंचरण में तो आपको चिमनी की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

आप अपने घर को एक अच्छा लग्जरी लुक देना चाहते हैं अपने घर का इंटीरियर डिजाइन कराना चाहते हैं और आपको समझ में नहीं आ रहे हैं कि कहां से शुरुआत किया जाए कौन सा डिजाइन आपके घर के लिए बेहतर होगा इंटीरियर डिजाइन कराते समय किन किन बातों ध्यान में रखना बहुत ही जरूरी है इन सभी की जानकारी के लिए आपको हमारी वेबसाइट के माध्यम से इसके बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

डिजाइन

डिजाइन करूं बहुत ही महत्वपूर्ण होता है जो भी आप अपना काम करना चाहते हैं उसकी प्रॉपर तरीके से डिजाइन नहीं करते हैं और आप काम स्टार्ट कर देते हैं तो बहुत सारी समस्याओं का सामना आपको करना पड़ सकता है जो कि आप सोचते हैं वैसा काम नहीं हो पाता है तो उसके लिए आपके पास तीन ऑप्शन है 3D डिजाइन सीखने अगर आपको थोड़ा बहुत कंप्यूटर के बारे में जानकारी है तो आप यूट्यूब के माध्यम से 13 डिजाइन 8 से 12 दिनों में अच्छे से सीख सकते हैं अगर आपको कंप्यूटर का बेसिक नॉलेज नहीं है या फिर आप काफी रोल एरिया में रहते हैं यहां पर आपको डिजाइन कराने में मुश्किल होता है और आप डिजाइन नहीं करा पा रहे हैं तो कोई बात नहीं आप 2D डिजाइन अपने पेपर पर खुद से करके आप देख सकते हैं अगर आप कहीं पर ऑफिस काम करने के लिए जाते हैं और आपके पास टाइम की कमी है आप प्रोफेशनल हेयर कर सकते हैं वह आपको प्रॉपर तरीके से इस बारे में अच्छे से जानकारी बता सकते हैं और आप डिजाइन अच्छे से कर पाएंगे।

प्लानिंग बजट

अगर हम हमारे घर में किसी भी डिजाइन को कराते हैं या फिर घर में कुछ काम कर आते हैं तो सबसे पहला हमारे मन में यह ख्याल आता है कि हमारे पास कितने रुपए हैं सबसे पहले आप बजट की एक उचित प्लानिंग करें यदि आपके पास 5 लाख का बजट है और उससे ज्यादा आप ज्यादा पैसा नहीं लगा सकते हैं तो आप शुरुआत में 3 लाख से ज्यादा का प्लानिंग ना करें वह अपने आप 5 लाख तक पहुंच जाएगा उसके बाद आप जो भी करना चाहते हैं जो भी आवश्यक जो चीजें हैं उसको दो पाठ में पाठ दीजिए 12 जरूरी है उसको सबसे पहले करें और जो ऑप्शन बाद में बचाता है उसको बजट के अनुसार बाद में भी कर सकते हैं यह भी जानना जरूरी है कि आपके लिए क्या आवश्यक है और क्या नहीं कुछ बातें हैं जो मिनिमम इंक्रीमेंट के अंदर आएगा जैसा कि लकड़ी का काम किचन रिलेटेड जैसे कि सिंह ग्रेनाइट इलेक्ट्रिकल आइटम फैन लाइटिंग कॉलिंग आइटम्स इत्यादि।

लकड़ी का चयन

बजट के अनुसार आपको लकड़ी का चुनाव करना बहुत ही आवश्यक होता है जब आप अपना डिजाइन फाइनल कर लेते हैं तो बजट के अनुसार आपको लकड़ी का चुनाव करना होता है कौन सा wood किसके लिए कहां पर इस्तेमाल करना होता है यह आपको तय करना है यह काफी महत्वपूर्ण होता है।

लैमिनेट का चुनाव

लकड़ी का चयन होने के बाद आपको लैमिनेट का चुनाव करना होता है आपको लैमिनेट के लिए बहुत सारे ऑप्शन मिल जाते हैं जैसा कि Decolam,PVC, Acrylic लिमिटेड और विनियर आप इन सब में कोई भी लैमिनेट का चुनाव अपने मुताबिक कर सकते हैं लैमनेट का चुनाव करते समय आपको बहुत सारी बातों का ध्यान में रखना जरूरी होता है और निर्मित उसके अकॉर्डिंग कि आप को सेलेक्ट करना होता है।

फ्लोर प्रोटेक्शन सीट

जब सब कुछ आप अपने हिसाब से डिसाइड कर लेते हैं तो आप काम स्टार्ट करना चाहते हैं तो रोल कोड एक्शनशीट का इस्तेमाल जरूर करें यह बहुत ही छोटी बात है लेकिन इसके प्रैक्टिकल परपस हैं इसमें आपको प्योर की प्रॉपर तरीके से प्रोडक्ट कर सकते हैं।

फॉल सीलिंग

फॉल सीलिंग का रोल काफी महत्वपूर्ण होता है और घर को यह लग्जरी लुक देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है आपके पूरे घर का रुप बदल देता है आपको कॉल करने के लिए भी डिटेल्स में प्लानिंग करनी होगी अगर आपका बजट सपोर्ट करता है।

किचन डिजाइन

घर को एक अच्छा लुक देने और उस को बेहतर बनाने में एक बड़ा योगदान की जान करता है इसलिए आपकी चंकी प्रॉपर प्लानिंग करें जिसे आप किंचन टिकाऊ होने के साथ-साथ मॉडर्न और आकर्षक लुक दे सकें ग्रेनाइट सिवनी ओम वगैरा की प्लानिंग कहने से कर लेनी होती है तो सब प्लानिंग कर ले।

इलेक्ट्रिकल एंड प्लंबिंग वर्क

जब वुड वर्क और फॉल सेलिंग का कार्य पूरा हो जाए तब आप इलेक्ट्रिकल और प्लंबिंग का काम करा सकते हैं इसके लिए आपको प्रॉपर प्लानिंग करनी होती है।

पेंटिंग

जब सब चीज कार्य पूरा हो जाए उसके बाद नंबर आता है पेंटिंग का वर्क स्टार्ट कर सकते हैं।

डीप क्लीनिंग

पेंटिंग के बाद आखरी में डीप क्लीनिंग करा लें

नोट : मुझे यकीन है आपको ये हमारी पोस्ट पसंद आयी होगी और किसी भी तरह से कोई दिक्कत आती है तो कमेंट करके बताएं हम आपकी मदद करेंगे इस पोस्ट को दोस्तों के साथ सोशल मीडिया में शेयर करें।